सर्विस वोटर्ज स्लो या ओपीएस पर नेताओं ,सरकारों की बेरुखी पर वार, पोस्टल बैलेट नहीं लौटे निर्वाचन विभाग,बार बार लगाई जा रही है गुहार। इसके उल्ट मतदान में दिव्यांग दिल खोल कर रहे मतदान।

IBEX NEWS शिमला।

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव में चुनावी ड्यूटी पर रहे कर्मचारियों से निर्वाचन विभाग बार बार गुहार लगा रहा है कि खुद तो मतदान कर लो भाई। रिटर्निग ऑफिसर्स को अपने अपने बैलेट जल्द दो।ताकि 8दिसंबर को होने वाली मत गणना में आसानी हो पाए।

बीते कल तक निर्वाचन विभाग को सर्विस वोटरों ,पोलिंग वोटरों के मत 38053ही पहुंचे है। जबकि राज्य में सर्विस वोटर,पोलिंग स्टाफ को मिलाकर

127282 है।

अब कयास लगाए जा रहे है कि ऐसे कर्मचारी ओपीएस को लेकर राज्य सरकारों की सुस्ती को लेकर अड़े हैं या फिर कोई और माजरा है। बार बार विभाग गुहार लगा रहा है।दूसरी ओर इन वोटरों का कंपैरिजन दिव्यांगों से करे तो दिल खोलकर अपने मतों के प्रयोग में जुटे है।

Postal Ballot facility was provided for 80+, PwD and essential services voters for the first time in Vidhan Sabha Elections throughout the state. Out of 39861 postal ballots that were issued, 38207 were cast. i.e. about 96%.
Maneesh Garg Election Commission of India

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी मनीष गर्ग ने कहा है कि निर्वाचन विभाग द्वारा इस बार विधानसभा चुनावों के दौरान दिव्यांग मतदाताओं के लिए फार्म 12-डी और डाक मतपत्र प्रदान करने सहित अन्य सुविधाओं का प्रावधान सुनिश्चित किया गया। शिमला में कल उन्होंने कहा कि 40 प्रतिशत से अधिक शारीरिक दिव्यांगता वाले 6 हजार 8 सौ 82 मतदाताओं को डाक मतपत्र जारी किए गए थे जिनमें से 6 हजार 4 सौ 26 नेय निर्वाचन विभाग द्वारा तैनात की गई विशेष टीमों के माध्यम से अपने घरों से मतदान किया।