गणित का भय दूर करने के लिए सरकारी शिक्षक की अनूठी पहल, आरंभ की मोबाइल रामानुजन मैथ्स लैब।

डीसी कांगड़ा ने दिखाई हरी झंडी

IBEX NEWS NETWORK, शिमला।

स्कूल छात्रों के मन से गणित विषय का भय दूर करने के लिए जिला कांगड़ा के एक सरकारी स्कूल के शिक्षक ने एक अनूठी पहल की है। इंदौरा उपमंडल में स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मोहटली के गणित प्रवक्ता विजय कुमार ने गणित विषय में बच्चों की रूचि बढ़ाने के उद्देश्य से मोबाइल रामानुजन मैथ्स लैब की शुरुआत की है, जिसके माध्यम से वे गांव गांव जाकर बच्चों को व्यवहारिक रूप से गणित के प्रश्नों को हल करना सिखाएंगे।
डीसी कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने आज उपायुक्त कार्यालय धर्मशाला से मोबाइल रामानुजन मैथ्स लैब को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके एसडीएम इंदौरा विनय मोदी भी उनके साथ रहे।


डॉ. निपुण जिंदल ने प्रवक्ता विजय कुमार की इस पहल की सराहना करते हुए कहा कि इससे बच्चों की गणित विषय में रूचि बढ़ेगी, साथ ही अन्य शिक्षकों के लिए भी यह प्रेरणास्पद है। भारत के महान गणितज्ञ श्री रामानुजन के नाम पर इस पहल की शुरुआत की गई है।
डॉ. जिंदल ने प्रवक्ता विजय कुमार को उनकी इस पहल के लिए मंगलकामनाएं देते हुए कहा कि उन्हें यह जानकर बहुत प्रसन्नता हुई कि श्री विजय कुमार के प्रयासों से मोहटली स्कूल में रामानुजन मैथ्स पार्क की स्थापना भी की जा रही है। इसमें वहां के प्रधानाचार्य का भी बड़ा सहयोग रहा है। उन्होंने कहा कि अक्सर देखने में आता है कि स्कूली बच्चों में गणित विषय को लेकर एक अलग सा भय होता है, जिस कारण गणित के सरल सवालों को हल करने में भी उन्हें कठिनाई होती है। प्रवक्ता विजय व स्कूल प्रशासन के इस तरह के प्रयास प्रशंसनीय हैं, जिसमें प्रैक्टिकल तरीके से बच्चों को गणित सिखाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से जिस भी तरह से सहायता की आवश्यकता होगी, वह उपलब्ध कराई जाएगी।
इस अवसर पर गणित प्रवक्ता विजय कुमार ने उपायुक्त कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल का आभार जताते हुए कहा कि उपायुक्त ने उनके इस प्रयास को आगे बढ़ाने के लिए समर्थन देकर उनके हौसले को बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के लिए गणित विषय को सरल बनाने की दृष्टि से उनको रामानुजन मैथ्स लैब प्रारंभ करने का विचार आया। उन्होंने बताया कि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मोहटली में रामानुजन मैथ्स पार्क स्थापित करने के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रशासन ने पूरा सहयोग किया।